इस गांव के लोग चलाते हैं अपना इंस्टाग्राम चैनल (in Hindi)

By अर्पिता चक्रवर्ती on March 28, 2017 in Knowledge and Media

(Is gaon ke log chalaate hain Apnaa Instagram channel)

अगर आपको लगता है कि शहरों का यूथ ही इंस्टाग्राम और हैशटैग्स के पीछे दीवाना है तो आप गलत हैं। @voicesofmunsiari के इंस्टाग्राम अकाउंट पर जाइए और आपकी गलतफहमी दूर हो जाएगी।

उत्तराखंड में हिमालय की गोद में बसा एक खूबसूरत गांव है मुनस्यारी। इस गांव के कुछ युवा अपना इंस्टाग्राम चैनल चलाते हैं। वे इस पर उत्तराखंड की खूबसूरत तस्वीरें अपलोड करते हैं। लिमिटेड मोबाइल और इंटरनेट कनेक्टिविटी, इंग्लिश की ठीकठाक समझ के साथ ये युवा दुनिया को जंगलों, पहाड़ों और अपनी जिंदगियों के किस्से सुना रहे हैं। चैनल ने अब तक 100 से ज्यादा पोस्ट किए हैं और इसके तकरीबन 1,000 फॉलोअर्स हैं। @voicesofmunsiari शायद देश का ऐसा पहला इंस्टाग्राम चैनल है जो किसी छोटे से गांव के मुट्ठी भर लोग चला रहे हैं।

यह इंस्टाग्राम चैनल 27 साल की शिव्या नाथ के दिमाग की उपज है। शिव्या का पैशन घूमना है और उन्होंने पांच साल पहले दुनिया घूमने के लिए अपनी डिजिटल मार्केटिंग की नौकरी छोड़ दी थी। वह पिछले साल मई में मुनस्यारी घूमने आई थीं और उन्होंने स्मार्टफोन रखने वाले गांव के लोगों को अपनी कहानी दुनिया को बताने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने गांव के कुछ युवाओं को एक ट्यूटोरियल की मदद से इंस्टाग्राम ऐप इस्तेमाल करना सिखाया और कुछ फटॉग्रफी टि प्स दीं। शिव्या ने बताया कि वह गांव के लोगों की सादगी भरी जिंदगी से प्रभावित थीं और वह चाहती थीं कि वे अपने जीने का तरीका दुनिया के साथ शेयर करें।

17 साल की अल्का रौतेला बताती हैं,'शुरुआत में चिंतित थी कि पता नहीं मैं अच्छी तस्वीरें खींचकर उन्हें पोस्ट कर पाऊंगी या नहीं, अच्छे कैप्शन लिख सकूंगी या नहीं लेकिन जैसे-जैसे वक्त बीतता गया मेरी तस्वीरें और लेखन दोनों बेहतर होते गए।' इस इंस्टाग्राम चैनल पर खूबसूरत पक्षियों और बर्फ से ढंके पहाड़ों से लेकर घूमने आए सैलानियों और स्थानीय व्यंजनों की तस्वीरें देख सकते हैं और इनकी कहानियों से रूबरू हो सकते हैं।

माटी संगठन नाम के संगठन की को-फाउंडर मलिका विरदी का कहना है कि इंस्टाग्राम चैनल तथाकथिक शहरी और ग्रामीण लोगों के बीच पुल की तरह काम कर रहा है। एक तरफ गांव के लोग इंटरनेट और टेक्नॉलजी से वाकिफ हो रहे हैं वहीं दूसरी ओर फूड ब्लॉगर्स और सैलानियों का ग्रुप भी गांवों की ओर आकर्षित हो रहा है।

First published by Navbharat Times



Story Tags: Cell phone-based networking systems, innovation, rural economy

Comments

There are no comments yet on this Story.

Add New Comment

Fields marked as * are mandatory.
required (not published)
optional
Stories by Location
Google Map
Events